क्यों?

क्यों?

क्यों निकलता हैं सूरज? क्यों निखरता हैं चाँद?

क्यों पंछी गीत गाते हैं? क्यों मोर नाचते हैं?


क्यों नदिया बहती हैं? क्यों मोर नाचते हैं?

क्यों तारे अनेक हैं? और निशा एक?


यह सब पूछा मैने अपने मन से

अगर हैम न होते ,तो सूरज निकलता?

अगर हम ना होते, तो क्या मोर नाचते?


में बैठा था, उस पहाड़ की चोंटी पर

प्रकृति के मनोहर से स्तंभ


न में था, न दिमाग

न शरिर,न कोई खयाल


सिर्फ में और मेरा मन


Written by - Vihaan Dhir

Recent Posts

See All

Where should I look for you, In the heart? Or the brain? In the artist's art? Or somewhere in the train? What should I do? Look for something new, Or let things brew? Should I stay? Well, a yes to tha

Thy life, hath loveth harrowing all of mine, O blank as oblivion, serene the eyes could find; Announcing thy summer, ye fragrance made a glide, Now splashes in my heart, a melancholic tide; She knowet

Would I be caring any more, or mine senses at search, I wish my days to end, art standing on some untold verge; Of graving all desires, which I had painted on ye urge, Thou memories art fastened with